Sunday, November 02, 2014

~ सरहदें (Sarhadein) / Borders ~



Source: Google Images

***God created this beautiful world & human drew lines across it and created territorial Borders. Whenever there is a firing or war at the border the people on the either side of the fence suffer & are killed and along-with them their loved ones, their dreams and their aspirations are also destroyed. In the end whosoever wins but the people on either side of the border lose. These verses represent the pain and anguish of a soul (who is wounded in the firing and is on a deathbed) on seeing the mass destruction caused by the firing at the border***

***ईश्वर ने यह ख़ूबसूरत जहां बनाया और इंसान ने लकीरें खींच कर सरहदे बना दी। जब भी इन सरहदों पे लड़ाई होती है, दोनों तरफ के लोग प्रभावित होते है और मारे जाते है और उनके साथ मारे जाते है उनके संबंधी, उनके सपने और उनकी ख्वाइशें। अंत में चाहे किसी की भी जीत हो, सरहद पे बसने वालो की हमेशा हार होती है। इन पंक्तियों में एक ऐसे ही मनुष्य की आंतरिक स्थिति का वर्णन किया गया है जो गोली-बारी में बुरी तरह से घायल होने के कारण मृत्यु के निकट है और अपने लोगो की मौत और तबाही से आहत है।***

~~~ Poem in Hindi ~~~

निस्तब्ध पड़ा है जिस्म मेरा 
शिथिल सा है साँसों का सिरा
बसता था आँखों में जो कल
निराश्रय स्वप्न वो आज पड़ा

है गुमसुम शांत वीरान खड़ा 
गली का नुक्कड़ और खेड़ा
कल रात से ही चुपचाप सा है
कूचों का झमघट और मेला

है ख़ामोशी करती अट्टहास
मौत की हरसू आती है बांस
फिर मातम सा यु छाया है
पर है न कोई जो करे रुआंस

कल सरहद पर थी गोली चली
कल रात सपनो का क़त्ल हुआ
हर रिश्ता जो अपना सा था
कल रात वो हर रक्तिम हुआ

वो सुनयनी सुश्री वो अर्धांगनी
घर-आँगन मेरा वह महकाती
तिनका-तिनका कर संगृहीत
वो घरोंदा सपनो का सजाती

क्यों आज अविचल है देह उसकी
क्यों गंधहीन है महक उसकी
क्यों कल्पनाओं के तिनके है बिखरे
क्यों रुधिर हुए है स्वप्न उसके

वो मात-पिता के चरण पावन
करते थे स्वयं में तीरथ धारण
देकर हर सुख की आहुति
करते बच्चो का भरसक पालन

क्यों आज है औंधे वो चरण पड़े
क्यों वरहीन से सारे तीर्थ है पड़े
वो सुखदायक यूँ व्यथित है क्यों
क्यों पोषक आज शोषित है पड़े

वो अनुज मेरा मेरा अंतरंग
सहभागी मेरे बचपन का संग
मेरे हृदय का वो अंश अभिन्न
आकर जिसने किया सूनापन भंग

क्यों रक्तिम लहूलुहान है आज 
क्यों छूटा वो बचपन का साथ
वो भाग मेरा मर्म हृदय अभिन्न
क्यों सूना निर्जीव पड़ा है आज

कुछ और भी है अवशेष यहाँ
सिमटा बचपन खोया एहसास
वो यौवन कुछ मुरझाता हुआ
वो जलते घर वो कला धुआं

सरहद पार भी परस्पर समां
हुआ मेरा वजूद वहां भी फ़ना
वहाँ भी सन्नाटे है गूंजे  
है मंज़र वहाँ भी रक्त सना

है भार्या वहाँ भी अविचल पड़ी 
है मात-पिता भी व्यथित निर्जीव 
अनुज भी लहूलुहान सा है
हर रिश्ता वहाँ भी निरा यतीम 

विहीन ख्वाबो का संत्रस्त समां
दर्पण प्रतिबिंब है दोनों जहां
कैसी नफरत की यह आंधी
जो रौंदे परस्पर दिलो को यहाँ

खुदा की नेमत सृष्टि यह सुन्दर
इंसानी फितरत लकीरें हर मंज़र
हर हद की हद खींचे ये सरहद
बांटे हर कलीसा, हर काबा, हर मंदिर

ज़ख़्मी यह रूह करती है अलाप
कैसी यह सरहद कैसा यह श्राप
कैसे बुझेगी प्यास ये लहू की
करे धरती गगन बस यही संताप

साँसों की डोर छोड़े है दामन
कैसे रुकेगा प्रचंड ये तांडव
चाहे जिस ओर लहरें जय परचम
सरहद परस्पर होगी पराभव

~~~ Roman English Translation ~~~

Motionless lies body of mine
Fainting slowly that breath divine
That who once rested in my eye
Destitute that dream lay beside

Silent, sad, barren it stands
Street’s corner and village stand
Since yesterday it lay so numb
That crowd, that fair & that scrum

The silence laughs out peak & loud
Its death all over smelling bad & taut
The sense of eerie so surrounds
But no one there to lament & howl

Yesterday at the BORDER bullets were fired
Last night there in dreams were murdered
Every relation that was one of the mine
Last night that was bloodily slaughtered

That lady my love with beautiful eyes
Spreading fragrance in my home & life
Each little element she herself took in
To decorate the world of dreams of mine

Why her body today lay so still
Why odourless today her fragrance feels
Why those elements are scattered here & there
Why her dreams are blood soaked in glare

Those parents of mine with feet so pure
Where in lied all pilgrimage so revere
Sacrificing all their comfort and luxury
They raised their children with love & care

Why today those feet lie upturned
Why today boon-less lay all pilgrimage
Why those peace-giver lay so stricken
Why patrons today lay victimized

That younger brother my piece of heart
My life companion my childhood part
The pie of my heart so inseparable
Whose arrival broke my desolate start

Why today is so bruised & wound
Why today childhood companion doomed
That heart of mine so inseparable
Why today lay there so static so dead

Some more remains still remain here
Shranked childhood & emotion strayer
That youth somewhat wither & fade
Those burning homes with black vapor

Across the BORDER the same scenery
Existence of mine destroyed in misery
There too silence cried loudly
There too visuals stay bloodily

The wife there too lay dead and still
The parents there too lay stricken and frill
The younger brother soaked in blood
Each relation there too is orphan and chill

Destitute dreams’ horrifying view
Reflection each side is mirror view
How stormy this hatred is
That crush so tender heart each side

That God created this world so pure
That human nature drew lines all over
Defining limit of every limit these BORDERS
Dividing churches, mosques and temples

Wounded soul cries its heart
Why these BORDERS cursed so hard
How will this thirst of blood quench
Deplore that sky & cry this earth

My breath is fading slower and slower
How will this ruthless madness hinder
Which ever direction winning flag flutter
The BORDERS each side will loose & suffer

~Shubh Life. . . OM Sai Ram

© 2014 Manish Purohit (Reserved)

Heartfelt thanks for visiting here. . .Your thoughts & feedback on the post are awaited & would be highly appreciated. Do spare some time to drop in your comment about the post, page or anything you feel like. . . it always feels great to hear from you :)
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...